मंगलवार, 24 फ़रवरी 2009

प्रभाव



किस पर किस का कितना
कब हो जाए, यह कहना
है नामुमकिन सपना

कोई मुलाक़ात, इक बात
न जाने कब किसके साथ
बन जाएँ कैसे हालात --

पुस्तक, चित्र या फिर आइना
बदल के रख दे हर माइना
समझ तो इसको मैं पाई न

कभी-कबार धुंधला एहसास
धीरे से होता आभास
बंधा जाता जीने में आस

प्रश्न चिह्न पर बहुत बड़ा
क्यों सब पे इक-सा न पड़ा?
अपनों को क्यों दिया लड़ा?

7 comments:

सतीश चंद्र सत्यार्थी 24/2/09 18:58  

भावों की बड़ी सुन्दर अभिव्यक्ति की है आपने रीमा जी,
इसी प्रकार लिखती रहें
शुभकामनाएं

हिमांशु । Himanshu 24/2/09 19:05  

सुन्दर रचना. प्रश्नचिह्न तो पड़ा ही है सबपर कहीं न कहीं, किसी न किसी तरह का.

Reema 24/2/09 19:18  

आपने इसे पढने के लायक समझा ये मेरा सौभाग्य है. मैं तो सिर्फ़ तुकबंदी की कोशिश कर रही थी -- दस-बारह साल के बाद हिन्दी भाषा में कुछ भी लिख पाने का प्रयत्न कर रही हूँ बस.

Arvind Mishra 24/2/09 19:21  

यह कवि रीमा की प्रथम कविता है -बहुत गहन भाव छुपे हैं ! समझने का प्रयास कर रहा हूँ ! और अपने काव्य विश्लेषक हिमांशु की मदद लेनी पड़ेगी तो क्या ले लूँ ? शेष टिप्पणी /पूर्ण टिप्पणी ब्लॉग पोस्ट पर ! पर शाबाश ! मंत्रमुग्ध करने वाली लाईनें ! !
हे हिमांशु ! कुछ समझना था आपसे और आपने टिप्पणी कर दी ! चलिए !! चीजें कितनी तेजी से भाग रही हैं !

Arvind Mishra 24/2/09 20:03  

आपने रायिमिंग /मीटर को भी संभाला और इसी बहाने बडी बात भी कह डाली ! कविता के बारे में तुलसी कहते हैं -सुगम अगम मृदु मंजु कठोरे अर्थ अमित अति आखर थोड़े !
मैं तो वही साक्षात देख रहा हूँ ! नतमस्तक !!

नारदमुनि 24/2/09 20:53  

bhav jandar or shandar. narayan narayan

Supriya Prathapan 25/2/09 19:27  

Really liked it. You never know who you meet in life.

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग के बारे में...

इस ब्लॉग के ज़रिये मैं अपनी हिंदी में सुधार लाना चाहती हूँ. आपसे अनुरोध है की अगर आपको मेरी भाषा, वर्तनी, व्याकरण, अभिव्यक्ति इत्यादि में कोई भी त्रुटि नज़र आए, तो मुझे अवश्य बताएँ और मेरा मार्गदर्शन करें. यहाँ पधारने का धन्यवाद!

  © Blogger templates Psi by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP